बदला हवा का रुख, ठंड बढ़ेगी

0
25


भोपाल, राजधानी भोपाल प्रदेश के कई जिलों में इन दिनों दिन के तापमान में वृद्धि हुई है। वहीं रात में अभी भी तेज सर्दी जारी है।


जानकारों के अनुसार उत्तर पश्चिम से ठंडी और शुष्क हवाएं इन दिनों पूर्वी मध्यप्रदेश के कुछ हिस्सों तक पहुंच रही हैं। जिसके चलते यहां का मौसम अभी ठंडा बना हुआ है।
मौसम विशेषज्ञों की मानें तो मौसम के पूरी तरह से शुष्क रहने और कम से कम अगले चार से पांच दिनों तक ऐसा ही रहने के आसार हैं।
शुष्क मौसम के बीच, उत्तर की ओर से ठंडी हवाओं ने न्यूनतम तापमान में गिरावट और सर्दियों की ठंड को तेज करने की संभावना है। वहीं इन दिनों उमरिया, मंडला और नरसिंहपुर में हल्की बारिश भी हो रही है।मौसम विज्ञानियों से मिली जानकारी के मुताबिक अभी 3-4 दिन तक रात के तापमान में गिरावट का सिलसिला बना रहेगा। इसके बाद हवा का रुख बदलने से एक बार फिर बादल छा सकते हैं।


वर्तमान में कोई वेदर सक्रिय नहीं, बादल छंटने लगे…
मौसम विज्ञानियों के अनुसार वर्तमान में कोई वेदर सिस्टम सक्रिय नहीं है। मौसम के मिजाज की जानकारी देते हुए उनका कहना है कि उन्होंने बताया कि इससे बादल छंटने लगे हैं। आसमान साफ हो गया है। साथ ही हवा की रुख भी उत्तरी हो गया है।


अभी कुछ दिन बने रहते हैं इसी तरह के हालात
मौसम विज्ञानियों के अनुसार उत्तर भारत में हाल ही में बर्फबारी हुई है। वहां से मैदानी इलाके की तरफ आ रही सर्द हवाओं से प्रदेश में ठंड का दौर एक बार फिर शुरू हो गया है। इस तरह की स्थिति अभी 3-4 दिन तक बनी रह सकती है। इस दौरान न्यूनतम तापमान  में काफी गिरावट हो सकती है।
मौसम के जानकार एके शर्मा के अनुसार रविवार को एक बार फिर पारा गिर सकता है। भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार उत्तरी पाकिस्तान और उससे सटे जम्मू कश्मीर में देखा गया एक पश्चिमी विक्षोभ देश से दूर पूर्व-उत्तर-पूर्व में चला गया है।
आने वाले सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ ने अफगानिस्तान में हेरात और काबुल और पाकिस्तान के उत्तर में चार बाग और भारत में लेह को जोडऩे वाले एक अक्षांश के साथ पूर्वी ईरान पर अपनी बारी का इंतजार किया।


चेतावनी: यह देखते हुए, आईएमडी ह्म् ने उत्तर (मध्य), पूर्व और पश्चिम भारत में कल (शनिवार) तक अधिकतम और न्यूनतम तापमान में किसी भी महत्वपूर्ण बदलाव की गुंजाइश नहीं पाई और रात के तापमान में (एक स्पष्ट आकाश के तहत) 2-4 डिग्री तक धीरे-धीरे गिरावट बाद के दो से तीन दिनों (रविवार से मंगलवार) के दौरान आने की संभावना जताई है।
वहीं ये भी कहा जा रहा है कि उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में तेज सतह हवाओं (20-25 किमी / घंटा से लेकर, और इसलिए कोई कोहरा नहीं) प्रबल हो सकती है, जिससे मुख्य रूप से गणतंत्र दिवस (रविवार) को जम्मू और कश्मीर को छोडक़र, जहां बिखरे हुए हिस्सों को छोडक़र शुष्क मौसम 2द्गड्डह्लद्धद्गह्म् होता है। वर्षा की उम्मीद है। अगले तीन से चार दिनों के दौरान सुबह के समय में पूर्वी भारत में मध्यम से घने कोहरे की संभावना है।

दिन का तापमान बढ़ेगा
हालांकि मध्यप्रदेश के संबंध में जानकारों का कहना है आसमान साफ होने के कारण अब दिन के तापमान में धीरे-धीरे बढ़ोतरी होने लगेगी। जहां कुछ जानकारों का मानना है कि 27 जनवरी को एक पश्चिमी विक्षोभ उत्तर भारत में पहुंचेगा।
उसके प्रभाव से हवा का रुख फिर बदलेगा। वातावरण में नमी आने से बादल छाने लगेंगे। वहीं कुछ का कहना है कि अभी 31 जनवरी तक खासी सर्दी बनी रहेगी। वहीं यदि मौसम में बदलाव की बात करें तो ये स्थिति करीब 15 फरवरी के बाद ही सामने आएगी, जबकि इससे पहले कभी तेज सर्दी तो कभी कम सर्दी की स्थिति बनी रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here