सिटी को स्मार्ट बनाने 400 मकान-दुकान खतरे में

0
322

भोपाल। दोपहर मेट्रो, स्मार्टसिटी डेवलपमेंट कॉरपोरेशन ने रंगमहल से जवाहर चौक होते हुए डिपो चौराहा तक प्रस्तावित 45 मीटर चौड़ी रोड का निर्माण करने मार्किंग की है। इसमें एमएलए कॉलोनी, गुरुद्वारा की दुकानें, हनुमान मंदिर के पास, आर्य समाज मंदिर, जैन मंदिर, मॉडल स्कूल की दुकानें, चित्रगुप्त मंदिर समेत पूरी लाइन में करीब 400 दुकानों, मकानों के पास मार्किंग की है। एमएलए कॉलोनी के ही 25 मकान प्रभावित हो रहे हैं।


इसके साथ ही गुरुद्वारा से लेकर एमएलए कॉलोनी से होते हुए दशहरा मैदान के पास रोड तक एक नई 30 मीटर रोड के लिए भी मार्किंग की है। इसमें आठ मकान पूरी तरह टूटने की स्थिति में है। इस मार्किंग से पूरे क्षेत्र में संबंधितों में डर की स्थिति बन गई है। यहां रहवासी व व्यापारिक एसोसिएशन ने मिलकर इसका विरोध करना तय किया है। यहां के रहवासी विनय पाटनी का कहना है कि स्मार्टसिटी प्रबंधन को कोई भी कार्रवाई के पहले रहवासियों व प्रभावित पक्षों को विश्वास में लेना चाहिए। लेकिन न तो कोई नोटिस दिया और न यहां का विकास प्लान बताया। इस मामले में वे कोर्ट में जाने की बात कह रहे हैं। हालांकि स्मार्टसिटी के अफसरों का कहना है कि समय समय पर पूरा प्लान शहर के सामने आया है।


गौरतलब है कि स्मार्टसिटी के टीटी नगर एरिया बेस्ड डेवलपमेंट प्रोजेक्ट में 342 एकड़ जमीन है। यहां 45 मीटर से लेकर 12 मीटर चौड़ाई तक की 18 सडक़ें प्रस्तावित है। अभी यहां प्लेटिनम प्लाजा से जवाहर चौक और आगे तक की बुलेवार्ड स्ट्रीट रोड का काम पूरा किया जा रहा है। अब ये दूसरी बड़ी रोड होगी।

लैंडयूज बदलने पर आपत्ति: यहां रहवासियों का कहना है कि मास्टर प्लान में तय लैंडयूज को बिना किसी सोच के साथ स्मार्टसिटी ने टीएंडसीपी में बदल दिया। उनके अनुसार एमएलए कॉलोनी का लैंडयूज 2010 में व्यवसायिक किया गया था, अब इसे आवासीय कर दिया है। गुरूद्वारा क्षेत्र का पीएसपी था, लेकिन इसे व्यवसायिक कर दिया गया। अन्य में भी इसी तरह बदलाव किया जो गलत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here