मोदी के लोकसभा में सिख दंगों को लेकर दिए बयान को लेकर मध्य प्रदेश में बयानबाजी

0
408

राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर PM मोदी करीब पौने दो घंटे बोले. इस दौरान उन्होंने अपनी सरकार के कार्यों को गिनाया। वहीं सिख विरोधी दंगों को लेकर कांग्रेस को कटघरे में खड़ा किया।1984 के सिख विरोधी दंगों का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने संसद में कहा कि कांग्रेस अल्पसंख्यकों के नाम पर रोटियां सेंकती है।

  • क्‍या कांग्रेस को सिख विरोधी दंगा याद है?
  • क्‍या वह अल्‍पसंख्‍यक नहीं थे?
  • क्या अल्पसंख्यकों के लिए दो तराजू होंगे?

जब सिख भाइयों के गले में टायर बांधकर जला दिया गया था। दंगे के आरोपियों को जेल नहीं भेजा। इतना ही नहीं जिन पर सिख दंगों को भड़काने का आरोप था, उन्हें मुख्यमंत्री बना दिया गया।

किसी भी जांच दल ने मुख्यमंत्री कमलनाथ का नाम नहीं लिया: पीसी शर्मा

सरकार के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने आनन-फानन में बुलाई प्रेस वार्ता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस बयान को पूरी तरह असत्य बताया और कहा कि 1984 के बाद सिख दंगों की जांच के लिए बने दो आयोग, सात कमेटियां और दोएसआईटी साफ कर चुकी है कि कमलनाथ का इस मामले से दूर-दूर तक लेना देना नहीं है।

  • प्रधानमंत्री का सिख दंगों में कांग्रेस का हाथ बताना दुर्भाग्यपूर्ण है

पीसी शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मध्य प्रदेश को विकसित प्रदेशों के बराबर में खड़ा कर दिया है। मध्य प्रदेश हर फील्ड में आगे बढ़ रहा है इसलिए बीजेपी घबरा गई है। उन्होंने कहा कि गुरुनानक साहब की 550वीं जयंती प्रदेश में धूमधाम से मनाई गई। हम दुआ करते हैं कि भगवान प्रधानमंत्री को सद्बुद्धि दे।

पीसी शर्मा के बयान पर नरोत्तम का पलटवार

नरोत्तम मिश्रा ने कहा कांग्रेस के लोगों ने जस्टिस ढींगरा की रिपोर्ट का अध्ययन नहीं किया है। जस्टिस ढींगरा ने अपनी रिपोर्ट में कई ऐसे लोगों को बेनकाब किया है जो सिख दंगों के आरोपी थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर असत्य बोलने का आरोप लगाने वाले पहले जस्टिस ढींगरा की रिपोर्ट का अध्ययन कर लें।

गृह मंत्री अमित शाह के बारे में जो पीसी शर्मा बोल रहे हैं, पूरा देश जानता है कि तत्कालीन केंद्रीय कांग्रेस की सरकार ने उनके साथ षड्यंत्र किया था जो अब दूध का दूध और पानी का पानी हो चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here