अतिथि शिक्षकों से लेकर आऊटसोर्स तक.. बेरोजगारों की नयी फौज नया गुस्सा

0
535

भोपाल,दोपहर मेट्रो।मप्र में कोरोना को लेकर ‘कड़की” का तर्क देकर सरकारी महकमों में कर्मचारियों की शामत आ रही है। पर्यटन महकमे में कर्मचारियों की थोकबंद विदाई मामले में आक्रोश थमा नहीं है वहीं लोक निर्माण विभाग में आउटसोर्स पर लिये गये कर्मचारियों को भी छह महीने से वेतन नहीं मिलने का मामला सामने आया है।सात महीने पहले सत्तापरिवर्तन का एक ‘कारक” बने अतिथि शिक्षक भी सरकार के खिलाफ नाराजगी प्रकट करने से नहीं चूक रहे हैं। उधर रोजगार के मामले में भाजपा को घेरने के प्रयास में जुटी कांग्रेस के हाथ में मुद्दे लग रहे हैं।


जानकारी के अनुसार सरकार पर लोक निर्माण विभाग और पर्यटन समेत कई महकमों के कर्मचारियों की इस हालत को लेकर दबाव है कि वह स्थितियों को सुधारे।लोक निर्माण विभाग में आउटसोर्स पर लिये गये कर्मचारियों को पूरे कोरोनाकाल में ही वेतन नहीं मिलने के मामले को भी सीएम सचिवालय की जानकारी में लाया जा चुका है। उधर विभाग में कई कामों के भुगतान लंबे समय से अटके हुए हैं। ठेकेदार विभाग में नये काम शुरू करने में आनाकानी कर रहे है कई जगह पर अध्ाूरे काम छोड़ दिये गये हैं।उधर अतिथि शिक्षक पहले ही अपनी नाराजगी व भाजपा के प्रति गुस्से का इजहार कर चुके हैं। इसी बीच पर्यटन विभाग के एमडी विश्वनाथन ने सरकार के खिलाफ नया मुद्दा पैदा कर दिया है। बताया जाता है कि जिन 88 कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाया गया है,उनका ‘आर्थिक बोझ” का संबंध्ा मूलत: निगम के कारोबार से सीधा नहीं जुड़ता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here