Home Blog Page 2

गोवा फिल्म फेस्टिवल मै मध्यप्रदेश माध्यम जनसंपर्क की फिल्में पुरस्कृत

सैयद रिजवान अली द्वारा छायांकन की गई फिल्में पुरस्कृत फिल्मकार संजय विजय विजयवर्गीय द्वारा निर्देशित

भारत सरकार द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत गोवा में आयोजित “52 वें इन्टरनेशनल फिल्म फेस्टिवल आफ इंडिया” में जनसंपर्क, मध्यप्रदेश की सहयोगी संस्था “मध्यप्रदेश माध्यम” द्वारा निर्मित और पूर्व में कई पुरस्कार प्राप्त कर चुके फिल्मकार संजय विजयवर्गीय द्वारा निर्देशित दो फिल्मों “हम कर सकते हैं” और “आत्मनिर्भर भारत” का चयन हुआ है। देशभर से आमंत्रित प्रविष्टियों में से, प्रसून जोशी, केतन मेहता, शंकर महादेवन, मनोज बाजपेयी और रसूल पोकुट्टी जैसे प्रसिद्ध फिल्मकारों की ज्यूरी द्वारा “75 creative minds of tomorrow” के लिए इन दोनों फिल्मों का चयन किया गया। फिल्मों का छायांकन सैयद रिज़वान अली तथा संपादन सुशील शर्मा न्यौपाने और लेखन अदिति पुराणिक तथा शुभेन्द्र केसरवानी द्वारा किया गया है। इस उपलब्धि पर आयुक्त, जनसंपर्क तथा प्रबंध संचालक डाॅ. सुदाम खाड़े द्वारा फिल्म की क्रियेटिव टीम को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएँ दी।

नकली सैनिटाइजर फैक्ट्री पर भोपाल में पुलिस का छापा

भोपाल। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के चलते आपदा में अवसर की तलाश करते बड़ी कंपनियों के नाम पर नकली सैनिटाइजर बनाने वाले गिरोह फिर सक्रिय हो गए हैं। राजधानी की पुलिस ने ऐसे ही एक गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर मौके पर दबिश देते हुए सैकड़ों लीटरं नकली सैनिटाइजर जब्त कर लिया है। फैक्ट्री के संचालक पर एफआइआर दर्ज की गई है।

रातीबड थाना प्रभारी सुदेश तिवारी के मुताबिक पुलिस को सूचना मिली थी कि इलाके स्वच्छ हर्बल कंपनी कलखेड़ा रोड द्वारा बड़े पैमाने पर नकली सैनिटाइजर बनाया जा रहा है। इस सैनिटाइजर को कैन में पैक करते हुए नामी-गिरामी कंपनी के स्टीकर लगाकर बड़े दामों पर बेचकर अवैध लाभार्जन किया जा रहा है। सूचना पर उक्त ब्रांडेड कंपनी के अधिकारियों को साथ लेकर उक्त फैक्ट्री पर छापा मारा गया। मौके से 156 नग पांच लीटर की कैन में 760 लीटर सैनिटाइजर जब्‍त किया गया। आरोपित फैक्ट्री संचालक अक्षय शर्मा निवासी जेके पार्क कोलार रोड एवं फाइज आलम निवासी पुल वोगदा के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध किया गया।

लंबे समय से उक्त कार्य में लिप्त थे। बीच में व्यापार कम हो गया तो यह काम रोक दिया। हाल ही में कोरोना के नए वैरिएंट के बाद तीसरी लहर की आशंका के चलते नकली सैनिटाइजर बनाने का कार्य पुनः शुरू कर दिया था। इस काम में इनके द्वारा 200 से 250 रुपये के सैनिटाइजर को ब्रांडेड सैनिटाइजर के रूप में बनाने पर 2000 से 2500 रुपए का बेचकर 10 गुना तक लाभ अर्जित किया जाता था। आरोपितों की इस नकली सैनिटाइजर को शहर और उसके बाहर भी इसे सप्लाई करने की तैयारी थी। पुलिस उनसे पूछताछ कर यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि वे कितने लोगों को अभी तक नकली सैनिटाइजर बेच चुके हैं।

अभिनेत्री अमीषा पटेल के खिलाफ भाेपाल की अदालत ने जारी किया वारंट

भाेपाल ।जिला न्यायालय ने साेमवार काे बालीवुड की मशहूर अभिनेत्री अमीषा पटेल के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया है। यूटीएफ टेलीफिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने 32 लाख 25 हजार रूपये के चेक बाउंस हाेने पर अदालत में केस लगाया है। जिला अदालत ने अमीषा काे चार दिसंबर काे काेर्ट में हाजिर हाेने का आदेश जारी किया है। बता दें कि अमीषा पटेल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का प्रचार कर चुकी हैं।

यूटीएफ टेलीफिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के वकील रवि पंथ ने बताया कि प्रथम श्रेणी जिला न्यायाधीश रवि कुमार बाेरासी ने अमीषा पटेल के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया है। अमीषा पटेल और उनकी कंपनी मेसर्स अमीषा पटेल प्राेडक्शन ने यूटीएफ टेलीफिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी से फिल्म बनाने के नाम पर 32 लाख 25 हजार रूपये उधार लिए थे। जिसके एेवज में उन्हाेंने दाे चेक 32 लाख 25 हजार के दिए थे। दाेनाें चेक बाउंस हाे गए थे। इसके बाद यूटीएफ टेलीफिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की ओर से कंपनी ने एडवाेकेट रवि पंथ के माध्यम से जिला न्यायालय में केस लगाया था।

मामले की सुनावाई के बाद साेमवार काे अमीषा पटेल के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया गया है। एडवाेकेट पंथ ने बताया कि यदि अभिनेत्री पटेल चार दिसंबर काे अदालत में हाजिर नहीं हाेती हैं, ताे उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया जा सकता है। बताया जाता है कि अभिनेत्री अमीषा पटेल के खिलाफ इंदौर की एक अदालत में भी चेक बाउंस का केस दर्ज हाे चुका है। वहां भी उन्हाेंने फिल्म बनाने के नाम पर 10 लाख रूपये उधार लिए थे। बदले में अमीषा पटेल द्वारा दिया गया चेक बैंक में बाउंस हाे गया था।

भोपाल में कोरोना के 16 मामले आने पर सीएम शिवराज ने कहा-छोटे कंटेंटमेंट जोन बनाएं

भोपाल। भोपाल में सोमवार को कोरोना के 16 मामले सामने आए हैं। इसे गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को मंत्रालय में आपात बैठक बुलाई। जिसमें स्वास्थ्य मंत्री डा. प्रभुराम चौधरी, विभाग और जिला प्रशासन के अधिकारी शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने संबंधित परिवार को आइसोलेट करने और जरूरत होने पर छोटे कंटेंटमेंट जोन बनाकर संक्रमण को फैलने से रोकने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि काटजू सहित अन्य अस्पतालों को कोरोना के इलाज के लिए चयनित करें और हवाई अड्डे एवं रेलवे स्टेशनों पर जांच शुरू कराएं। उन्होंने अधिकारियों को इसमें एक क्षण की भी लापरवाही न करने की हिदायत दी।

भोपाल के अलग-अलग क्षेत्रों से 16 मामले सामने आए हैं। मुख्यमंत्री ने भोपाल कलेक्टर से कहा कि तुरंत सक्रिय होकर जरूरी कदम उठाएं। मास्क पर जोर दें, शारीरिक दूरी का पालन करने का आग्रह करें। जांच की संख्या बढ़ाएं और अस्पतालों में कोरोना से संबंधित सभी आवश्यक मशीन और उपकरणों का एक बार परीक्षण कर लें। उन्होंने कहा कि पूरी कार्ययोजना तैयार कर प्रशासन को अलर्ट पर रखें। जन जागरुकता अभियान को गति देने के लिए मुख्यमंत्री खुद भी निकलेंगे।

कोई भी आंकड़े न छिपाए

मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान को निर्देश दिए कि कोरोना से संबंधित आंकड़े रोज सुबह-शाम मुझे उपलब्ध कराएं। कोई भी आंकड़े न छिपाए। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों (सीएमएचओ) की बैठक लें। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी अस्पतालों में कोरोना से संबंधित सभी मशीनरी (उपकरण, आक्सीजन संयंत्र, आक्सीजन कंसंट्रेटर, वेंटिलेटर) का परीक्षण और समीक्षा कर लें। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में फिर से रोको-टोको अभियान को गति देने के निर्देश दिए हैं।

सूदखोरों की शिकायत करें, डरे नहीं भोपाल पुलिस आपके साथ है

भोपाल, सूदखोरी अभिशाप है,भोपाल पुलिस आपके साथ है। भोपाल पुलिस द्वारा जिले में सूदखोरी रोको अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान सूदखोरों से कर्ज लेने वाले कर्ज धारकों को जागरूक किया जाएगा एवं अवैध सूदखोरों के विरुद्ध कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

महत्वपूर्ण जानकारी:-

1- केवल बैंक और पंजीकृत संस्थाओं से ही ऋण प्राप्त करें।

2- कर्जा लेने से पहले लिखित एग्रीमेंट जरूर करें।

3- एग्रीमेंट में कर्ज की समस्त शर्तों का उल्लेख अवश्य करें।

4- अमाउंट चुकता करने में देरी पर अगर कोई पेनॉल्टी है, तो उसका उल्लेख अवश्य करें।

अतः समस्त भोपाल निवासियों से अपील है कि अपने आसपास अवैध सूदखोरों द्वारा कर्जा की जानकारी अगर उन्हें प्राप्त हो तो, तुरंत क्राइम ब्रांच थाना प्रभारी ने मोबाइल नम्बर 7049126141 पर अवश्य भेजें, जिससे संबंधित के विरुद्ध तत्काल उचित वैधानिक कार्रवाई की जा सकें। इसके अतिरिक्त निकटतम थाने में शिकायत कर सकते है।नोट:- अवैध सूदखोरों की सूचना देने वाले व्यक्ति का नाम, पता व मोबाइल नम्बर गोपनीय रखा जाएगा।

1 दिसंबर को मुख्यमंत्री करेंगे जिलों की क्राइसिस कमेटी मैनेजमेंट के साथ वर्चुअल मीटिंग

कोविड के नए वेरियंट ओमिक्रोन से बचाव के लिए मुख्यमंत्री ने ली कैबिनेट की मीटिंग, चिकित्सा और स्वास्थ्य मंत्री रहे मौजूद। दोपहर मेट्रो की ख़बर का हुआ असर आपातकाल मीटिंग में हुए महत्वपूर्ण निर्णय:-

– प्रदेश में किसी भी प्रकार के धरना प्रदर्शन आगामी आदेश तक पूर्णतः प्रतिबंधित रहेंगे।

– कल से 50 % क्षमता के साथ स्कूल खुलेंगे, 6 दिन में से 3 दिन बच्चे स्कूल में पढ़ने जाएंगे। स्कूलों और कॉलेजों की ऑनलाइन कक्षाएं फिर से शुरू कर रहे हैं।
– बिना मास्क वालों पर चालानी कार्यवाही होगी, रोको-टोको अभियान फिर से शुरु किया जायेगा।
– निजी संस्थानों में वैक्सीन के दोनों डोज लगे होने पर ही प्रवेश मिलेग ।

ब्रेकिंग:- 1 दिसंबर को मुख्यमंत्री प्रदेश के सभी जिलों की क्राइसिस कमेटी मैनेजमेंट के साथ करेंगे वर्चुअल मीटिंग, उसके बाद जारी होगी कोरोना की नई गाइडलाइन। स्कूल, कॉलेज और कोचिंग संस्थान कितनी क्षमता के साथ खुले रहेंगे इस पर निर्णय जिला आपदा प्रबंधन समूह करेगा।

अंबेडकर, राजेंद्र प्रसाद जैसे लोगों को नमन करने का दिन

संविधान दिवस के मौके पर संसद में आयोजित कार्यक्रम में विपक्षी दलों द्वारा शामिल न होने पर प्रधानमंत्री ने कहा कि यह कार्यक्रम किसी दल का नहीं था। उन्होंने बिना नाम लिए कांग्रेस पर हमले किए। इस कार्यक्रम को राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति व लोकसभा स्पीकर ने भी संबोधित किया। 

संसद लोकतंत्र का मंदिर- राष्ट्रपति

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सांसदों से उनके संसदीय आचरण के बारे में कहा कि संसद लोकतंत्र का मंदिर है। पूजा-गृहों, इबादत-गाहों जैसा ही आचरण वे यहां करें। 

यह कार्यक्रम राजनैतिक दल का नहीं था-पीएम

  • पीएम ने कहा कि यह कार्यक्रम किसी राजनैतिक दल का नहीं था। किसी प्रधानमंत्री का नहीं था। यह कार्यक्रम स्पीकर पद की गरिमा थी। हम संविधान की गरिमा बनाए रखें। हम कर्त्तव्य पथ पर चलते रहें।
  • महात्मा गांधी ने आजादी के आंदोलन में अधिकारों के लिए लड़ते हुए भी देश को कर्त्तव्यों के लिए तैयार करने की कोशिश की थी। वे स्वदेशी, आत्मनिर्भर भारत का विचार लाए थे। महात्मा गांधी देश को तैयार कर रहे थे। उन्होंने जो बीज बोए थे वे वटवृक्ष बन जाने चाहिए थे। लेकिन, ऐसा नहीं हुआ। अच्छा होता देश आजाद होने के बाद कर्त्तव्य पर बल दिया गया होता तो अधिकारों की अपने आप रक्षा होती। 
  • आज डॉ. अंबेडकर, राजेंद्र प्रसाद, पूज्य बापू को नमन करने का दिन है। आजादी के लिए जिन्होंने अपने आपको खपाया, उन सबको नमन करने का दिन है। आज 26/11 ऐसा दुखद दिन है। जब देश के दुश्मनों ने देश के भीतर आकर मुंबई में ऐसी आतंकवादी घटना को अंजाम दिया। भारत के संविधान में सूचित देश के सामान्य मानवीय की रक्षा की जिम्मेदारी के तहत हमारे वीर जवानों ने आतंकियों से लोहा लेते-लेते सर्वोच्च बलिदान दिया। आज उन बलिदानियों को भी आदर पूर्वक नमन करता हूं। 

गर्ग एग्जीबिशन में इम्पोर्ट फर्नीचर खरीदी के लिए लगी भीड़

राजधानी में फर्नीचर खरीदारी के लिए प्रसिद्ध 40 वर्षों से भोपाल में फनीर्चर और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की विशाल रेंज उपलब्ध करने वाले गर्ग फर्नीचर इंद्रपुरी भोपाल द्वारा लगाई गई एग्जीबिशन में दुबई और मलेशिया से इंपोर्ट इंपोर्टटेंट फर्नीचर, इलेक्ट्रॉनिक आइटमों की खरीदी पर त्यौहारों पर 0% फाइनेंस सहित अन्य डिस्काउंट ऑफर ग्राहकों को दिये जा रहे है। एग्जीबिशन में उपलब्ध प्रोडक्ट वैरायटी, क्वालिटी ग्राहकों को आकर्षित कर रही है। गर्ग के मालिक आलोक गर्ग ने बताया है एग्जीबिशन में ग्राहकों की डिमांड के आधार पर इंपोर्ट फनीर्चर उपलब्ध कराया गया है। 10000 स्क्वायर फिट पर एग्जीबिशन लगाई गई है। सोफा सेट, डाइनिंग टेबल, डबल बेड, इम्पोर्टेड कपबोर्ड, टीवी शोकेस, अलमारी, किचन फर्नीचर, स्टडी टेबल, ऑफिस फर्नीचर की रेंज ग्राहकों को एक्सचेंज फैसिलिटी के साथ उपलब्ध है, शादी पैकेजेस पर विशेष ऑफर हमारे द्वारा दिया जा रहा है। 

मप्र में उपचुनाव: मुद्दे केंद्र के इम्तिहान शिवराज का

प्रसंगवश: राजेश सिरोठिया


आनाकानी भरे रवैये और उपचुनाव टालने की तमाम कोशिशों के बावजूद मध्यप्रदेश में खंडवा लोकसभा और जोबट, पृथ्वीपुर तथा रैगांव विधानसभा के चुनाव सिर पर आ ही गए। इन चुनावों के नतीजों से न तो केंद्र की मोदी सरकार की सेहत पर कोई फर्क पडऩे वाला है और न मध्यप्रदेश की भाजपा की सरकार के स्थायित्व को कोई खतरा पैदा होने वाला है। जोबट और पृथ्वीपुर विधानसभा सीट  कांग्रेसी विधायकों के निधन से रिक्त हुई थी तो रैगांव और खंडवा लोस सीट भाजपा के कब्जे में थी। इसके बावजूद यह चुनाव मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लिए बड़े इम्तिहान का सबब बन गया है।


शिवराज सिंह चौहान की हसरत है कि वह चारों सीटों पर कब्जा करके केंद्र और राज्य में अपने विरोधियों को बताना और जताना चाहते हैं कि तमाम प्रतिकूलताओं के बावजूद सूबे में उनका जादू बरकरार है। लेकिन धरातल की हकीकत सभी को परेशान कर रही है। धरातल पर मंहगाई और बेरोजगारी तथा बढ़ते खर्चों और घटती आमदनी के चलते मतदाताओं के मन में कड़वाहट घुली हुई है। मंहगाई में लोगों की सबसे ज्यादा मुसीबत पेट्रोल, डीजल और घरेलू गैस की कीमतों को लेकर है जो केंद्र सरकार से जुड़े विषय हैं।  


 मोदी जी के राष्ट्रवाद के नाम पर लोग तो कलेजे पर हाथ रखकर रह जाते हैं। लेकिन एक-एक दो-दो रूपए के लिए दुकानदारों से सौदेबाजी करने वाले महिला वर्ग को गैस सिलेंडरों की कीमत का उछाल रास नहीं आ रहा है। यानि मामला बिल्कुल साफ है। लोग त्रस्त केंद्र की डीजल पैट्रोल गैस सिलेंडर पर टेक्स कम नहीं करने से हैं लेकिन दांव पर शिवराज सिंह चौहान की इज्जत है। लोगों को पता है कि इन उपचुनावों के नतीजों से मोदी और भाजपा का कुछ बिगडऩे वाला नहीं है इसलिए उनकी मनमर्जी भरी रीति नीति के लिए झटका दिया जाए। मतदाताओं के इसी मूड के चलते कांग्रेस ने छाती चौड़ी कर रखी है। उसे पता है कि इस दो दलीय व्यवस्था वाले राज्य में भाजपा को सबक सिखाने वाले वोट उसके ही पाले में पड़ेंगे।


मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को दमोह की हार के बाद तो सदमा नहीं लगा था, क्योंकि वहां का चुनाव भाजपा बनाम कांग्रेस नहीं था। दमोह का उपचुनाव भाजपा प्रत्याशी बनाम आम जनता का चुनाव बन गया था। जातिवाद के खिलाफ वोट डाले थे। दमोह की जीत से उत्साहित कांग्रेस चारों सीटों पर दमोह जैसा भाव यानि भाजपा बनाम जनता बनाना चाहती है। शिवराज को इन हालात का अंदाजा हो चला है, इसी के चलते ही उन्होंने भाजपा के संगठन के साथ-साथ मंत्रियों की टीम को उपचुनावी क्षेत्रों में अभी से झोंक दिया है। उन्होंने खुद उपचुनावों के पहले इन क्षेत्रों में सघन दौरे करके जमकर सरकारी घोषणाएं परोसी है। जनता की नब्ज को छूने की तमाम कोशिशों के बावजूद वह उन मुद्दों का निराकरण नहीं कर सके हैं जिनका निर्णय क्षेत्र केंद्र के अधीन है।


   हालांकि शिवराज की जो राजनीतिक तासीर है उसको देखें तो वह इतनी आसानी से घुटने वालों में से नहीं है। वह रूठी जनता को मनाने की कला में माहिर है। बावजूद इसके नतीजे भाजपा के प्रतिकूल रहे तो 2023 के लिए खतरे की घंटी बज जाएगी लेकिन मामला दो-दो की बराबरी पर छूटा तो भी सरकार की फेस सेविंग हो जाएगी। लेकिन भाजपा यदि चारों सीटें हथियाने में कामयाब हो गई तो शिवराज सरकार को 2023 तक कोई खतरा नहीं रहने वाला। कुल मिलाकर महीने भर सूबे के सियासी प्याले में महीने भर जमकर बवाल मचने वाला है।

दिग्विजय ने छेड़ा भाजपा के भीतर नामों का घमासान


मुख्यमंत्री के लिए उछाले दो नाम तो भाजपा ने भी किया पलटवार


भोपाल,दोपहर मेट्रो। मप्र की राजनीति में कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह ने कल सरगर्मी घोलने की जो कोशिश की,उसे लेकर भाजपा के गलियारों में अब तक चर्चा हैं। मदरअसल सिंह ने यह ट्वीट कर सनसनी फैला दी कि मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बदला जाना तय है। लेकिन इसके लिये उम्मीदवार भी सिर्फ दो ही रह गए है।इनमें एक केंद्रीय मंत्री प्रल्हाद पटेल और दूसरे प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा। दिग्विजय ने बाकी उम्मीदवारों के प्रति सहानुभूति भी जताई। उल्लेखनीय है कि मप्र भाजपा में एक महीने पहले भी कई नेेताओं की औचक व गोपनीय मुलाकातों ने सरगर्मी पैदा कर दी थ
हालांकि भाजपा ने दिग्विजय सिंह के इस ट्वीट पर फौरन पलटवार भी किया,लेकिन भाजपा के भीतर ही नामों को लेकर कई गुणाभाग भी चलने लगे हैं। हालांकि प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा का कहना है कि उनके(दिग्विजय)गोरखधंधे बंद हो गए, इसलिए पीड़ा स्वभाविक है। खास बात यह है कि नाम उछलाने के पहले पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करके कहा था कि आजकल भाजपा में मोदी-शाह अपने मुख्यमंत्रियों को बदल रहे हैं। मध्यप्रदेश में भी अपने आपको योग्य समझने वाले भाजपा के कुछ नेताओं की उम्मीदें बढ़ गई हैं। कितने और कौन-कौन मध्य प्रदेश भाजपा में उम्मीदवार है, क्या कोई हमें बता सकता है। नहीं बताओगे तो मैं कल सूची दे दूंगा।इसके बाद सोमवार दोपहर को उन्होंने पटेल व शर्मा के नाम ट्वीट कर दिये।दिग्विजय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उम्मीदवार केंद्रीय मंत्री पटेल को तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का प्रत्याशी विष्णु दत्त शर्मा को बता दिया है।बाद में मीडिया से चर्चा में दिग्विजय सिंह ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की प्रतिक्रिया पर कहा कि मुझे उत्तर देने की जरूरत नहीं है,मुख्यमंत्री का बदला जाना तय है।


वीडी बोले मेरी भी सहानुभूति
दिग्विजय के जवाब में विष्णु दत्त शर्मा ने कहा कि कांग्रेस में पार्टी अध्यक्ष के लिए केवल दो ही उम्मीदवार दौड़ में हैं। सोनिया गांधी के उम्मीदवार राहुल गांधी व राहुल गांधी की उम्मीदवार सोनिया गांधी। बाकी हसरतें रखने वालों के प्रति मेरी सहानुभूति है।


कांग्रेस की चिंता करें दिग्विजय : नरोत्तम


राज्य सरकार के प्रवक्ता गृहमंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि दिग्विजय सिंह आजकल भाजपा की कुछ ज्यादा ही चिंता कर रहे हैं। जबकि, उन्हें कांग्रेस की चिंता करने की जरूरत है। कांग्रेस अपना राष्ट्रीय अध्यक्ष तय नहीं कर पा रही है।मैं जानता हूं कि वे किसके कहने पर इंटरनेट मीडिया पर अभियान चला रहे हैं।


यह है ट्वीट और जवाबी ट्वीट
‘अब मध्य प्रदेश भाजपा में मुख्यमंत्री के लिए केवल दो ही उम्मीदवार दौड में रह गए हैं। मोदीजी के उम्मीदवार प्रहलाद पटेल व संघ के उम्मीदवार वीडी शर्मा। बाकी उम्मीदवारों के प्रति मेरी सहानुभूति है। मामू का जाना तय।” :@दिग्विजय


‘कमलनाथजी की सरकार गिराने का श्रेय आपको ही जाता है और आपको इस पर गर्व है। ये कांग्रेस के संस्कार हैं, भाजपा के नहीं। हमें शिवराज जी के नेतृत्व में अपनी सरकार पर गर्व है और हम जनकल्याण की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।” @नरोत्तम