बीफार्मा के छात्र का शव भोपाल में कमरे से पांच सौ मीटर दूर झाड़‍ियों में मिला, पिता ने लगाया हत्‍या का आरोप

भोपाल। पिपलानी के पटेल नगर बीफार्मा के प्रथम वर्ष के 22 वर्षीय छात्र की किराये के कमरे से कमरे से पांच सौ मीटर दूर झाड़ियों में लाश मिलने से सनसनी फैल गई। उसके गले में गमछा कसा हुआ था। सूचना लगते ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को हमीदिया अस्पताल पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। बाद

में उसके परिजनों को जानकारी दी। बुधवार को पिता की मौजूदगी में पोस्टमार्टम कराने के बाद शव को परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया। मृतक के पिता का आरोप है कि उनके बेटे की हत्या की गई है। जबकि पुलिस इसे खुदकुशी

बता रही है। पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पूरे मामले की स्थिति साफ होगी। फिलहाल मर्ग कायम कर लिया गया है।

पिपलानी थाना प्रभारी अजय नायर के मुताबिक पटेल नगर पिपलानी में किराये से रहने वाला रोहित पटेल मूल रूप से कटारे का पुरवा गांव थाना ईसानगर छतरपुर जिले का रहने वाला था। उसके पिता राजबहादुर कृषक है और एक बड़ा भाई यूपी पुलिस में आरक्षक है। दो साल पहले कोटा में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने के बाद जुलाई 2021 में वह भोपाल आया था।

उसने रायसेन रोड निजी कालेज में बीफार्मा प्रथम वर्ष में प्रवेश लिया था। मंगलवार शाम छह बजे पटेल नगर के लोगों ने ओशो आश्रम के पास झाडियों में एक लाश मिलने की सूचना दी थी , मौके पर पहुंचकर देखा तो एक युवक का शव था, उसके गले में गमछा लपटा हुआ था। कान और नाक से खून निकल रहा था। बाद में घटनास्थल करीब पांच सौ मीटर दूर रहने वाले छात्र के रूप में उसकी पहचान होने के बाद उसके परिजनों को सूचना दी। रोहित की लाश जिस हालत में मिली थी और गमछे को गठान लगाकर गले में लपेट गया था। उस हिसाब से वह अभी तक तो खुदकुशी करना ही लग रहा है।.

उक्त बातें प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने एक दिवसीय प्रवास के दौरान रीवा में आयोजित रोजगार दिवस के अवसर पर रोजगार सम्मेलन को संबोधित करते हुए कही। चौहान ने कहा कि यह भी पता लगाया जा रहा है कि राज निवास का कमरा उस वहशी दरिंदे को किसने दिया उस पर भी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि बेटियों के साथ हो रहे अपराध को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा किसी भी गुंडे को मध्यप्रदेश की धरती में नहीं रहने दिया जाएगा उनको जमींदोज करने का काम प्रदेश सरकार करेगी।

संबोधन के दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री एक बार फिर अपने बदले हुए तेवर में दिखे उन्होंने जहां अपने सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की जमकर ब्रांडिंग की वही विगत 3 महीनों में चल रहे रोजगार मेले में मिले स्वरोजगार व रोजगार के आंकड़े भी बताया हैं। चौहान ने बताया कि जनवरी में 526000 व 16 फरवरी को 504000 लोगों को रोजगार मिला है। 30 मार्च को यानी आज 335000 युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here