CM चौहान दिल्ली में अहम मसलों पर केंद्रीय गृहमंत्री समेत अन्‍य मंत्रियों से करेंगे विमर्श

नई दिल्ली : 18 माह बाद होने वाले मध्यप्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने गुरुवार को दिल्ली में एमपी भाजपा की कोर कमेटी को चुनावी गाइडलाइन बताई। सत्ता संगठन के साथ बुलाई गई इस बैठक में संघ के साथ समन्वय के अलावा पार्टी में हर स्तर पर सत्ता और संगठन के बीच तालमेल बनाए रखने के लिए कहा गया ताकि कार्यकर्ता चुनावी रण के लिए ताकत के साथ जुट सकें। प्रदेश संगठन के बूथ विस्तारक कार्यक्रम के आधार पर केंद्रीय नेतृत्व ने आने वाले महीनों में जिलों और बूथों के कार्यकर्ताओं को लेकर तैयार किए गए कार्यक्रम भी कोर कमेटी के समक्ष रखे हैं।

दिल्ली में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष की मौजूदगी में हुई बैठक में राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा, कोर कमेटी में शामिल संगठन के राष्ट्रीय और प्रदेश पदाधिकारी, केंद्रीय मंत्रीगण और प्रदेश के गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा मौजूद रहे। बैठक में आगामी चुनाव में उम्रदराज नेताओं को टिकट देने के बजाय घर बैठाने, कैबिनेट विस्तार, निगम मंडल में नियुक्ति, जिला अध्यक्षों के चुनाव लड़ने को लेकर गाइडलाइन, सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन में संगठन की भागीदारी पर चर्चा की गई। बैठक में प्रदेश में सुनियोजित दंगों को लेकर संघ के फीडबैक और आगामी दिनों में संघ के साथ सत्ता संगठन के समन्वय के मामले में भी विचार किया गया। संघ की समन्वय बैठक में पिछले दिनों दी गई अनुषांगिक संगठनों की रिपोर्ट को भी इस बैठक में तवज्जो दी गई।

निचले स्तर पर सत्ता संगठन में समन्वय का मसला
पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व तक यह बात पहुंची है कि प्रदेश में निचले स्तर तक सत्ता संगठन में समन्वय नहीं है। कई मामले में अनदेखी से पार्टी का मूल कार्यकर्ता सरकार से नाराज है। इसे पार्टी ने गंभीरता से लिया है और प्रदेश के सत्ता संगठन के बीच हर स्तर पर समन्वय और संतुष्टि के भाव रखने के लिए कहा है ताकि कार्यकर्ता में अच्छा संदेश जाए और वह 18 माह बाद होने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी की जीत के लिए प्राण प्रण से जुट सके। इस मामले में कुछ जिलों में कलेक्टरों और जिला अध्यक्षों के बीच निर्देशों को लेकर सामने आई शिकायतें भी संगठन तक पहुंची हैं जिस पर ध्यान देने के लिए कहा गया है। गौरतलब है कि पिछले दिनों हुई बैठक में पार्टी के राष्टÑीय स्तर के एक नेता ने संगठन का ध्यान आकृष्ट करते हुए कहा था कि जिलों में निचले स्तर पर सत्ता और संगठन के बीच समन्वय की स्थिति बेहतर नहीं है। हमें इस ओर ध्यान देने की जरूरत है। इस बैठक में तब प्रदेश अध्यक्ष और मुख्यमंत्री को संज्ञान लेकर निचले स्तर तक तालमेल बनाने के लिए निर्देशित किया गया था।

मंत्रियों के नवाचार और परफार्मेंस का जिक्र
दिल्ली में भाजपा के राष्ट्रीय कार्यालय की बैठक में जिन अन्य मुद्दों पर चर्चा किए जाने की बात कही जा रही है उसमें मंत्रियों के नवाचार और कमजोर परफार्मेंस वाले मंत्रियों की मंत्रिमंडल से छुट्टी करने का मसला भी शामिल है। दो माह पहले मध्यप्रदेश के दो दिवसीय दौरे पर आए पार्टी के राष्ट्रीय संगठन मंत्री संतोष ने मंत्रियों के कामकाज पर नाराजगी भी जताई थी और उनके नवाचार भी पूछे थे। इस मामले में चर्चा के बाद सीएम शिवराज की ओर से कुछ मंत्रियों के विभागीय नवाचार भी संगठन की बैठक में बताए गए हैं। उन्होंने पचमढ़ी चिंतन शिविर में सरकार द्वारा लिए गए निर्णयों और मंत्रियों के नवाचारों से केंद्रीय नेतृत्व को अवगत कराया।

सीएम शिवराज आज होने वाली तीन घंटे की बैठक के बाद दिल्ली में रुक सकते हैं। उनका वापसी का कार्यक्रम जारी नहीं हुआ है। इस दौरान वे केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के अलावा कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, ज्योतिरादित्य सिंधिय और अन्य मंत्रियों से मुलाकात कर प्रदेश के विकास के मसलों पर आवश्यक सहयोग और बजट को लेकर चर्चा कर सकते हैं। केंद्रीय नेतृत्व द्वारा बुलाई गई प्रदेश भाजपा कोर कमेटी की बैठक में इस बात पर भी जोर दिया गया कि केंद्र सरकार द्वारा गरीब कल्याण के लिए चलाई गई योजनाओं, देश के हित में लिए गए फैसलों की बात मध्यप्रदेश के हर व्यक्ति तक पहुंचनी चाहिए। खासतौर पर दस फीसदी वोट बढ़ाने के लिए टारगेट किए गए आदिवासी समाज तक यह बात पहुंचाना है। आदिवासी वर्ग को प्रदेश और केंद्र सरकार की योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए जमीनी स्तर पर और अधिक तेजी से काम करने और फीडबैक लेने के लिए कहा गया है।

मच्छर पर ट्विटर वार
भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने रात में एक ट्वीट किया कि वे दिल्ली में हैं। यहां पिछले एक घंटे से लाइट नहीं है। खिड़की खोली तो हवा के साथ मच्छर भी आ गए हैं। अंधेरे में मच्छर मार रहा हूं। सुबह स्कोर बताऊंगा, जय हो फ्री बिजली वाली सरकार। इस पर कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने तंज कसते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में भी यही स्थिति है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here