MP Start-Up Policy प्रधानमंत्री मोदी ने लॉन्च की

भोपाल : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश का नौजवान, स्टार्टअप के क्षेत्र में उड़ान भरने तैयार है। मध्यप्रदेश में स्टार्टअप का एक नया इकोसिस्टम हमने तैयार किया है। मध्यप्रदेश में ईज आॅफ डूइंग बिजनेस के क्षेत्र में भी काफी काम हमने किया है। जनवरी से अब तक 700 करोड़ की फंडिंग अब तक स्टार्टअप के लिए मध्यप्रदेश में आ चुकी है। इंदौर जब कुछ तय करता है, तो उसे कर दिखाता है। एक आईडिया सचमुच में दुनिया बदल देता है जितनी भी सुविधाएं हैं, हम वह सब उपलब्ध कराएंगे। नई स्टार्टअप नीति शुक्रवार को प्रधानमंत्री के हाथों लांच हुई है। हमारे पास क्षमता है, प्रतिभा है, योग्यता है, हमारे पास इनोवेटिव आइडियाज हैं, अगर उनको ठीक दिशा और सहयोग मिल जाए तो मेरा विश्वास है कि स्टार्टअप के क्षेत्र में हम बेंगलुरू और हैदराबाद को भी पीछे छोड़ देंगे।

उन्होंने कहा कि हमने स्टार्टअप्स का संवाद प्रारंभ किया था। हमारे नौजवानों ने जो-जो सुझाव हमको दिए थे, उसका अक्षरश: पालन करते हुए हम यह स्टार्टअप पॉलिसी लेकर आए हैं। पॉलिसी में जो हमने वादे किए हैं, उन को लागू करवाने के लिए मामा भी तुम्हारे साथ है। दिल्ली में जितनी स्टाम्प ड्यूटी लगती है, उससे कम ही मध्यप्रदेश में लगेगी। सीएम चौहान ने कहा कि आज मैं कह रहा हूँ मेरे बेटा बेटियो, आप मुझे आइडिया दें, मैं आपको अवसर दूंगा। जैसे हमने गेंहूँ उत्पादन में पंजाब को पीछे छोड़ा है, वैसे ही हम बेंगलुरु और हैदराबाद को स्टार्टअप में पीछे छोड़ेंगे। हमारे युवाओं ने जो-जो सुझाव दिए थे उन सुझावों को लेकर हम स्टार्टअप पॉलिसी लेकर आए हैं। हमारा प्रदेश कभी बीमारू राज्य कहा जाता था सड़क, नहीं,बिजली नहीं,पानी नहीं। गड्ढों में सड़क थी कि सड़क में गड्डा था, आज के युवाओं ने देखा ही नहीं। हमारा एक संकल्प हैं रोजगार और मध्यप्रदेश में हम हर महीने रोजगार दिवस के रूप में मानते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी ग्रोथ रेट लगातार बढ़ रही है। हमारी जीडीपी लगातार बढ़ रही है, हमने सफलता के नए आयाम हासिल किए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई स्टार्टअप पॉलिसी वर्चुअली लांच की। इसके पहले इंदौर को ब्रिलिएंट कन्वेंशन सेंटर स्टार्टअप एक्सपो में नई प्रवृत्तियों और नवाचारों की प्रदर्शनी भी लगाई गई। इसमें स्टार्टअप स्पेस के लिए समाधान बताए गए हैं। यहां हुए कॉन्क्लेव में स्पीड मेंटरिंग सत्र में स्टार्टअप्स, शैक्षणिक संस्थानों तथा स्टार्टअप स्पेस के प्रमुख लीडर्स के साथ मिले और खुला संवाद हुआ। दिन भर चले सत्र में स्टार्टअप और संभावित उद्यमी टियर-1  और टियर-2 शहरों में फंडिंग के विभिन्न तरीकों के बारे में जानकारी दी गई। स्टार्टअप कॉन्क्लेव-2022 में सरकारी और निजी क्षेत्र के नीति निमार्ता, इनोवेटर्स, केंद्र और राज्य के प्रशासक, स्टार्टअप्स संभावित उद्यमी, स्टार्टअप इको – सिस्टम के सभी स्तंभ और जन-प्रतिनिधि शामिल हुए।

इंदौर में स्टार्टअप कॉन्क्लेव में नवाचारों की प्रदर्शनी का उद्घाटन
इंदौर के ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में शुरू हुए स्टार्टअप कॉन्क्लेव में स्टार्टअप एक्सपो में नई प्रवृतियों और नवाचारों की प्रदर्शनी का शुभारंभ सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा ने किया। सांसद  शंकर लालवानी, सचिव सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम  पी. नरहरि, संचालक विशेष गढ़पाले भी उपस्थित थे। प्रदर्शनी में नए स्टार्टअप द्वारा अपने इनोवेशन और उद्यम को प्रदर्शित किया गया हैं। मंत्री  सखलेचा और अतिथियों ने प्रदर्शनी का अवलोकन कर स्टार्टअप्स से चर्चा की और उनकी पहल को सराहा। स्टार्टअप कॉन्क्लेव शुक्रवार सुबह उत्साह और उमंग के साथ शुरू हुआ, जिसमें विभिन्न सत्रों में चचार्ओं का दौर जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here